Hindi sex novel - गावं की लड़की - Village Girl

Contains all kind of sex novels in Hindi and English.
User avatar
rajkumari
Gold Member
Posts: 676
Joined: 22 May 2016 09:23

Re: Hindi sex novel - गावं की लड़की - Village Girl

Postby rajkumari » 15 Jul 2016 08:59

गावं की लड़की 7

सावित्री के हथेलिओं को पंडित जी की जाँघ की मांसपेशियो के काफ़ी कड़े और गातीलेपन का आभास हर दबाव पर हो रहा था जैसे की कोई चट्टान के बने हों. पंडित जी किताब को दोनो हाथो मे लेकर लेटे लेटे पढ़ रहे थे और किताब उनके मुँह के ठीक सामने होने के कारण अब पंडित जी सावित्री को नही देख सकते थे. पंडित जी का मुँह अब किताब के आड़ मे पा कर सावित्री की हिम्मत हुई और वह पंडित जी के कमर वाले हिस्से के तरफ नज़र दौड़ाई तो देखा की धोती जो केवल जाँघो पर से हटी थी लेकिन कमर के हिस्से को अच्छी तरह से ढक रखा था और कहीं से भी लंगोट भी दिखाई नही दे रही थी.
धोती से उनके निचले हिस्से का ठीक से ढके होने से सावित्री को कुछ राहत सी महसूस हुई. और उसके आँखो के आँसू लगभग सूखने लगा ही था कि उसकी नज़र किताब के उपर पड़ी. आठवीं क्लास तक पड़ी होने के वजह से उसे पड़ना तो आता ही था. पंडित जी के हाथ मे जो किताब थी उसका नाम पढ़ कर सावित्री ऐसे सकपकाई जैसे अभी उसके बुर से मूत निकल जाएगी. ऐसी नाम की कोई किताब भी हो सकती है यही सोचकर सिहर ही गयी. ये नाम अक्सर वो गाओं मे झगड़े के समय औरतों को गाली देने के लिए प्रयोग होते हैं. उस किताब का नाम उसके उपर हिन्दी के बड़े अक्षरो मे "हरजाई" लिखा था. यह देखते ही सावित्री के अंदर फिर से घबराहट की लहरें उठने लगी. अब पंडित जी के चरित्र और नियत दोनो सॉफ होती नज़र आ रही थी. उसे अब लगने लगा था कि उसके शरीर मे जान है ही नही और किसी ढंग से वह पंडित जी के जाँघ को दबा पा रही थी. जब जब उस किताब पर नज़र पड़ती तो सावित्री ऐसे सनसना जाती मानो वह किताब नही बल्कि पंडित जी का मोटा खड़ा लंड हो. अब सावित्री के मन को यह यकीन हो गया कि आज उसकी इज़्ज़त को भगवान भी नही बचा पाएँगे. इसी के साथ उसे लगा की उसका मन हताशा की हालत मे डूबता जा रहा था. वह एकदम कमजोर महसूस कर रही थी मानो कई सालों से बीमार हो और मरने के कगार पर हा गयी हो. तभी पंडित जी को लगा की उनके कसरती जाँघ पर सावित्री के हाथों से उतना दबाव नही मिल पा रहा हो और यही सोच कर उन्होने सावित्री को जाँघो को हाथ के बजाय पैर से दबाने के लिए कहा. घबराई सावित्री के सामने एक बड़ी परेशानी थी की उनके पैर और जाँघो पर कैसे चढ़ कर दबाए. आख़िर मजबूर सावित्री उनके पैर और जांघों पर पैर रख कर खड़ी होने लगी तो ऐसा लगने लगा मानो संतुलन ना बनाने के वजह से गिर जाएगी. तभी पंडित जी ने उसे कहा "दुपट्टा हटा दे नही तो उसमे उलझ कर गिर जाएगी" सावित्री को भी कुछ यह बात सही लगी क्योंकि जब वह पंडित जी के पैर और जाँघो पर खड़ी होने की कोशिस करती तब उसका उपरी शरीर हवा मे इधेर उधेर लहराने लगता और दुपट्टा मे उसके हाथ फँसने से लगता. लेकिन दुपट्टा से उसकी दोनो बड़ी बड़ी गोल चुचियाँ धकि थी जो कि समीज़ मे काफ़ी तन कर खड़ी थी. हर हाल मे पैर तो दबाना ही था इसलिए सावित्री दुपट्टा को उतारने लगी और उसे लगा कि उसके उपर आकाश की बिजली गिर पड़ी हो. दुपट्टा उतार कर बगल मे फर्श पर रख दिया और जब सीधी खड़ी हुई तब उसे दुपट्टे की कीमत समझ मे आने लगी. दोनो चुचियाँ एक दम बाहर निकली दिख रही थी मानो समीज़ अभी फट जाएगा और दोनो बड़े बड़े गोल गोल चुचियाँ आज़ाद हो जाएँगी. अब फिर सावित्री पंडित जी के जाँघ पर अपने पैर रख कर चाड़ने की कोशिस करने लगी तो संतुलन बनाने लिए फिर उसका कमर के उपर का शरीर हवा मे लहराया और साथ मे दोनो चुचियाँ भी और उसके शरीर मे सनसनाहट भर सी गयी.लेकिन गनीमत यह थी की पंडित जी का ध्यान उस किताब मे ही था और वी सावित्री के चुचिओ को नही देख रहे थे. सावित्री जब किसी तरह से उनके जाँघ पर खड़ी हो कर उनके जाँघ को अपने पैरों से दबाव बना कर दबाती उनके जाँघ पर उगे घने काले मोटे बालों से उसके पैर के तलवे मे चुभन सी महसूस होती. सावित्री उनके जाँघ पर जब खड़ी हो कर दबा रही थी तभी उसे उनके कसरती शरीर के गातीलेपन का आभास भी होने लगा और जाँघ लग रहा था कि पत्थर का बना हों. थोड़ी देर तक दोनो जांघों को पैर से दबाने के बाद पंडित जी ने उस किताब को एक किनारे रख दिया और फिर अपने जाँघो पर चड़ी सावित्री को घूर्ने लगे मानो दोनो चुचिओ को ही देख रहे हो. अब यह सावित्री के उपर नया हमला था. कुछ पल तक वो चुचिओ को ही निहारने के बाद बोले "उतरो" और सावित्री उनके जाँघो पर से अपने पैर नीचे चटाई पर उतार ली और अपनी पीठ पंडित जी के तरफ कर ली ताकि अपनी दोनो चुचिओ को उनके नज़रों से बचा सके और अगले पल ज्यों ही अपना दुपट्टा लेने के लिए आगे बड़ी के कड़क आवाज़ उसके कानो मे गोली की तरह लगी "कमर भी अपने पैर से" और उसने पलट कर पंडित जी की ओर देखा तो वे पेट के बगल लेट गये थे और उनका पीठ अब उपर की ओर था. उनके शरीर पर बनियान और धोती थी और अब इस हालत मे जब पैर से कमर दबाने के लिए पैर को कमर पर रखने का मतलब उनका सफेद रंग की बनियान और धोती दोनो ही सावित्री के पैर से खराब होती. पंडित जी के कपड़े इतने सॉफ और सफेद थे कि ग़रीब सावित्री की हिम्मत ना होती उनके इन कपड़ो पर पैर रखे. कुछ पल हिचकिचाहट मे बीते ही थे की पंडित जी मे दिमाग़ मे फिर ये बात गूँजी की सावित्री एक छोटी जाती की है और उसके पैर से दबाने पर उनके कपड़े लगभग अशुद्ध हो जाएँगे. फिर अगले पल बोले "रूको कपड़े तो उतार लूँ" और बैठ कर बनियान को निकाल कर चौकी पर रख दिया और धोती को कमर से खोलकर ज्योन्हि अलग किया की उनके शरीर पर केवल एक लाल रंग की लंगोट ही रह गयी.
धोती को भी पंडित जे ने बनियान की तरह चौकी पर रख कर केवल लाल रंग के लंगोट मे फिर पेट के बगल लेट गये. सावित्री धोती हटने के बाद लाल लंगोट मे पंडित जी को देखकर अपनी आँखे दूसरी तरफ दीवार की ओर कर लिया. उसके पास अब इतनी हिम्मत नही थी की अधेड़ उम्र के पंडित जी को केवल लंगोट मे देखे. सावित्री जो की दीवार की तरफ नज़रें की थी, जब उसे लगा कि अब पंडित जे पेट के बगल लेट गये है तब वापस मूडी और उनके कमर पर पैर रख कर चढ़ गयी. अपना संतुलन बनाए रखने के लिए सावित्री को पंडित जी के कमर की तरफ देखना मजबूरी थी और ज्यों ही उसने पंडित जी की कमर की तरफ नज़रें किया वैसे ही पतले लंगोट मे उनका कसा हुआ गातीला चूतड़ दिखाई दिया. सावित्री फिर से सिहर गयी. आज जीवन मे पहली बार सावित्री किसी मर्द का चूतड़ इतने नज़दीक से देख रही थी. उनके चूतदों पर भी बॉल उगे थे. लंगोट दोनो चूतदों के बीच मे फँसा हुआ था. गनीमत यह थी की पंडित जे की नज़रें सावित्री के तरफ नहीं थी क्योंकि पेट के बगल लेटे होने के वजह से उनका मुँहे दूसरी तरफ था इसी कारण सावित्री की कुछ हिम्मत बढ़ी और वह पंडित जी के कमर और पीठ पर चढ़ कर अपने पैरों से दबाते हुए पंडित जे के पूरे शरीर को भी देख ले रही थी. उनका गाथा हुआ कसरती पहलवानो वाला शरीर देख कर सावित्री को लगता था कि वह किसी आदमी पर नही बल्कि किसी शैतान के उपर खड़ी हो जो पत्थर के चट्टान का बना हो. सावित्री अपने पूरे वजन से खड़ी थी लेकिन पंडित जी का शरीर टस से मास नही हो रहा था. जैसा की सावित्री उनके शरीर को देखते हुए उनके कमर को दबा ही रही थी की उसे ऐसा लगा मानो पंडित जी के दोनो जाँघो के बीच मे कुछ जगह बनती जा रही हो. पंडित जी पेट के बगल लेटे लेटे अपने दोनो पैरो के बीच मे कुछ जगह बनाते जा रहें थे. सावित्री की नज़रें पंडित जी के इस नये हरकत पर पड़ने लगी. तभी उसने कुछ ऐसा देखा की देखते ही उसे लगा की चक्कर आ जाएगा और पंडित जी के उपर ही गिर पड़ेगी. अट्ठारह साल की सावित्री उस ख़तरनाक चीज़ को देखते ही समझ गयी थी की इसी से पंडित जी उसके चरित्र का नाश कर हमेसा के लिए चरित्रहीं बना देंगे. यह वही चीज़ थी जिससे उसकी मा के सपनो को तार तार कर उसके संघर्ष को पंडित जी ख़त्म कर देंगे. और आगे उसकी मा अपनी इज़्ज़त पर नाज़ नही कर सकेगी. यह पंडित जी के ढीले लंगोट मे से धीरे धीरे बढ़ता हुआ लंड था जो अभी पूरी तरीके से खड़ा नही हुआ था और कुछ फुलाव लेने के वजह से ढीले हुए लंगोट के किनारे से बाहर आ कर चटाई पर साँप की तरह रेंगता हुआ अपनी लम्बाई बढ़ा रहा था. फिर भी हल्के फुलाव मे भी वह लंड ऐसा लग रहा था की कोई मोटा साँप हो. उसका रॅंड एकदम पंडित जी के रंग का यानी गोरा था. पेट के बगल लेटने के वजह से जो चूतड़ उपर था उसकी दरार मे लंगोट फाँसी हुई और ढीली हो गयी थी जिससे आलू के आकर के दोनो अनदुओं मे से एक ही दिखाई पड़ने लगा था. उसके अगाल बगल काफ़ी बॉल उगे थे. तभी सावित्री को याद आया की जब वह लंगोट साफ कर रही थी तभी यही झांट के बॉल लंगोट मे फँसे थे. अनदुओं के पास झांट के बॉल इतने घने और मोटे थे की सावित्री को विश्वास नही होता था की इतने भी घने और मोटे झांट के बाल हो सकते हैं. सावित्री अपने उपर होने वाले हमले मे प्रयोग होने वाले हथियार को देख कर सिहर सी जा रही थी. उसके पैर मे मानो कमज़ोरी होती जा रही थी और उसकी साँसे अब काफ़ी तेज होने लगी थी जिसे पंडित जी भी सुन और समझ रहे थे. कुछ पल बाद ज्योन्हि सावित्री का नज़र उस लंड पर पड़ी तो उसे लगा की मानो उसकी बुर से मूत छलक जाएगी और खड़ी खड़ी पंडित जी के पीठ पर ही मूत देगी, क्योंकि अब पहले से ज़्यादा खड़ा हो कर काफ़ी लंबा हो गया था. पंडित जी वैसे ही लेटे अपना कमर दबावा रहे थे और उनका खड़ा लंड दोनो जाँघो के बीच मे चटाई पर अपनी मोटाई बढ़ा रहा था और सावित्री को मानो देखकर बेहोशी छाने लगी थी. शायद यह सब उस लंड के तरफ देखने से हो रही थी. अब सावित्री की हिम्मत टूट गयी और उसने अपनी नज़र चटाई पर लेटे हुए पंडित जी के लंड से दूसरी ओर करने लगी तभी उसने देखा की पंडित जी लेटे हुए ही गर्दन घुमा कर उसे ही देख रहे थे. ऐसी हालत मे सावित्री की नज़र जैसे ही पंडित जी के नज़र से लड़ी की उसके मुँह से चीख ही निकल पड़ी और " अरी माई" चीखते हुए पंडित जी के कमर पर से चटाई पर लगभग कूद गयी और सामने फर्श पर पड़े दुपट्टे को ले कर अपने समीज़ को पूरी तरह से ढक ली. लाज़ से बहाल होने के कारण अब उसका दिमाग़ काम करना एकदम से बंद ही कर दिया था. नतीजा दो कदम आगे बढ़ी और चटाई से कुछ ही दूरी पर घुटनो को मोदते हुए और अपने शरीर दोनो बाहों से लपेट कर बैठ गई और अपने चेहरे को दोनो घुटनो के बीच ऐसे छुपा ली मानो वह किसी को अपना मुँह नही दिखाना चाहती हो. अब वह लगभग हाँफ रही थी. फर्श पर ऐसे बैठी थी की वह अब वान्हा से हिलना भी नही चाह रही हो. उसकी घुटना के बीच मे चेहरा छुपाते हुए सावित्री ने दोनो आँखे पूरी ताक़त से बंद कर ली थी. सावित्री का पीठ पंडित जी के तरफ था जो कुछ ही फुट की दूरी पर बिछे चटाई पर अब उठ कर बैठ गये थे. लेकिन उनकी लंगोट अब काफ़ी ढीली हो चली थी और लंगोट के बगल से पंडित जी का गोरा और तननाया हुया टमाटर जैसे लाल सूपड़ा चमकाता हुआ लंड लगभग फुंफ़कार रहा था मानो अब उसे अपना शिकार ऐसे दिखाई दे रहा हो जैसे जंगल मे शेर अपने सामने बैठे शिकार को देख रहा हो.
अब पंडित जी उठकर खड़े हुए और अपने कमर मे ढीली लंगोट को खोलकर चौकी पर रख दिए. अब उनके शरीर पर एक भी कपड़ा नही था.



User avatar
rajkumari
Gold Member
Posts: 676
Joined: 22 May 2016 09:23

Re: Hindi sex novel - गावं की लड़की - Village Girl

Postby rajkumari » 15 Jul 2016 08:59

गावं की लड़की 8

एकदम नंगे हो चुके पंडित जी का लंड अब पूरी तरीके से खड़ा था. जहाँ पंडित जी पूरे नंगे थे वहीं ग़रीब सावित्री अपने पूरे कपड़े मे थी और लाज़ का चदडार भी उसके पूरे जवान शरीर पर था. पंडित जी अपने पूरे आत्मविश्वासमे थे और उनका उद्देश्या उनको सॉफ दिख रहा था. अब वह सावित्री पर अंतिम हमले के तरफ बढ़ रहे थे. उन्होने देखा कि सावित्री लाज़ और डर से पूरी तरह दब गयी है और अब उन्हे अपना कदम काफ़ी मज़बूती से उठाना होगा. उन्होने एक लंबी सांस ली जिसकी आवाज़ सावित्री को भी सुनाई दी. वह समझ गयी कि अगले पल मे वह लूट जाएगी. क्योंकि पंडित जी अब उसके सपनो और इज़्ज़त को मिट्टी मे मिलाने के लिए तैयार हो गये हैं. उसके मन मे यह बात सॉफ थी कि वह आज अपनी इज़्ज़त नही बचा पाएगी. उसका मनोबल पंडित जी के प्रभावशाली और कड़क व्यक्तित्व के सामने घुटने टेक दिया था. अगले पल पंडित जी सामने बैठकर अपने चेहरे को घुटनों के बीच छुपाए सावित्री के पास आए और झुककर सावित्री के एक बाँह को अपने मज़बूत हाथों से पकड़कर उपर खड़ा करने लगे. अब सावित्री के पास इतनी हिम्मत नही थी कि वह विरोध कर सके पूरी तरह से टूट चुकी सावित्री को आख़िर खड़ा होना पड़ा. खड़ी तो हो गयी लेकिन अपना सिर को झुकाए हुए अपने नज़रों को एकदम से बंद कर रखी थी. अपने दोनो हाथों से दोनो चुचिओ को छिपा रखी थी जो की समीज़ मे थी और उसके उपर एक दुपट्टा भी था. पंडित जी की नज़रे सावित्री को सर से पैर तक देखने और उसकी जवान शरीर को तौलने मे लगी थी. समन्य कद की सावित्री जो गेहुअन और सवाले रंग की थी और शरीर भरा पूरा होने के वजह से चुचियाँ और चूतड़ एकदम से निकले हुए थे. पंडित जी नेअपनी नज़रों से तौलते हुए पूछा "लक्ष्मी के दूसरे बच्चे को देखी है" सावित्री का दिमाग़ मे अचानक ऐसे सवाल के आते ही हैरानी हुई कि पंडित जी लक्ष्मी चाची के दो बच्चो जिसमे एक 13 साल की लड़की और 5 साल का लड़का था और उसके लड़के के बारे मे क्यों पूछ रहे हैं. फिर भी इस मुसीबत के पलो मे उसने और भी कुछ सोचे बगैर बोली "जी". फिर पंडित जी ने पूछा "कैसा दिखता है वो" सावित्री के मन मे यह सवाल और कयि सवालों को पैदा कर दिया. आख़िर पंडित जी क्या पूछना चाहते हैं या क्या जानना चाहते हैं. उसे कुछ समझ मे नही आया और चुप चाप खड़ी रही. फिर पंडित जी का हाथ आगे बढ़ा और खड़ी सावित्री के दोनो हाथों को जो की चूचियो को छुपाएँ थी हटाने लगे. सावित्री अब मजबूर थी पंडित जी के सामने और आख़िर दोनो चुचिओ पर से साथ हट गये और दुपट्टा के नीचे दोनो चुचियाँ हाँफने के वजह से उपर नीचे हो रहीं थी. अब दुपट्टे पर ज्योहीं पंडित जी का हाथ गया सावित्री के शरीर का सारा खून सुख सा गया और कुछ सकपकाते हुए एक हाथ से पंडित जी का हाथ पकड़नी चाही थी की पंडित जी ने उसके दुपट्टे को हटा ही दिया और दोनो बड़ी बड़ी चुचियाँ अब समीज़ मे एकदम सॉफ उभार लिए दिख रहीं थी.
सावित्री का दुपट्टा फर्श पर गिर पड़ा. तभी पंडित जी ने सावित्री के दिमाग़ मे एक जबर्दाश्त विस्फोट किया "वह लड़का मेरे लंड से पैदा है समझी...!" यह सुनते ही सावित्री खड़े खड़े मानो लाश हो गयी थी. वह क्या सुनी उसे समझ नही आ रहा था. लक्ष्मी चाची को पंडित जी ने चोदा होगा. इन बातों को और सोचने का समय उसके पास अब नही था क्योंकि उसके उपर पंडित जी के हमले शुरू हो गये थे. अगले पल सावित्री के दिमाग़ मे लक्ष्मी चाची के चरित्रा पर एक प्रश्नचिन्ह्आ लगने ही लगे थे कि पंडित जी के हाथों मे सावित्री की गदराई चुचियाँ आ ही गयी और सावित्री को अपने चुचिओ पर समीज़ के उपर से ही पहली बार किसी मर्द का हाथ पड़ते ही उसे लगा की जांघों के बीच एक अज़ीब सी सनसनाहट फैल गयी हो. अचानक इस हमले से सावित्री का मुँहा खुल गया और एक "सी..सी" की आवाज़ निकली थी कि फिर पंडित जी ने दबाव बढ़ा कर मसलना शुरू कर दिया. चुचियाँ काफ़ी ठोस और कसी हुई थी. शरीर मांसल होने के वजह से काफ़ी गदरा भी गयी थी. पंडित जी ने एक एक कर दोनो चुचिओ को मसलना शुरू कर दिया. पंडित जी खड़े खड़े ही सावित्री की चुचिओ को मसल रहे थे और सावित्री भी जो चटाई के बगल मे फर्श पर खड़ी थी, उसे लगा की उसके पैर मे अब ताक़त ही नही है और गिर पड़ेगी. पंडित जी का एक हाथ तो चुचिओ को बारी बारी से मीस रहे थे और दूसरा हाथ खड़ी सावित्री के पीछे पीठ पर होते हुए उसे उसे पकड़ रखा था की चुचिओ वाले हाथ के दबाव से उसका सरीर इधेर उधेर ना हीले और एक जगह स्थिर रहे ताकि चुचिओ को ठीक से मीसा जा सके. पंडित जी ने खड़े खड़े ही सावित्री के शरीर को पूरी गिरफ़्त मे लेते हुए चुचिओ को इतना कस कस कर मीज रहे थे कि मानो समीज़ को ही फाड़ देंगे. तभी सावित्री की यह अहसास हुआ की उसके समीज़ जो उसके कसी हुई चुचिओ पर काफ़ी तंग थी लगभग फट जाएगी क्योंकि पंडित जी के हाथों से मीज़ रही चुचिओ के उपर का समीज़ का हिस्सा काफ़ी सिकुड और खीच जाता था. दूसरी बात ये भी थी की सावित्री का समीज़ काफ़ी पुराना था और पंडित जी के कस कस कर चुचिओ को मीजने से या तो समीज़ की सीवान उभड़ जाती या काफ़ी खींच जाने से फट भी सकती थी जो की सावित्री के लिए काफ़ी चिंता और डर पैदा करने वाली बात थी. यदि कहीं फट गयी तो वह घर कैसे जाएगी और दूसरी की मा यदि देख ली तो क्या जबाव देगी. यही सोचते उसने पंडित जी से हिम्मत कर के बोली "जी समीज़ फट जाएगी" तभी पंडित जी ने कहा "चल निकाल दे और आ चटाई पर बैठ, कब तक खड़ी रहेगी" इतना कह कर पंडित जी चटाई पर जा कर बैठ गये. उनका लंड पूरी तरह से खड़ा था जो सावित्री देख ही लेती और डर भी जाती उसकी मोटाई देख कर. समीज़ के फटने की डर जहाँ ख़त्म हुआ वहीं दूसरी परेशानी भी खड़ा कर दी कि समीज़ को उतरना था यानी अब नंगी होना था.

सावित्री को अब यह विश्वास हो चुका था कि आज पंडित जी उसका इज़्ज़त को लूट कर ही दम लेंगे और उसकी इज़्ज़त अब बच भी नहीं सकती. यह सोच मानो सावित्री से बार बार यही कह रहे हों कि विरोध करने से कोई फ़ायदा नही है जो हो रहा है उसे होने दो. आख़िर सावित्री का मन यह स्वीकार ही कर लिया की पंडित जी जो चाहें अब उसे ही करना पड़ेगा. और उसके काँपते हाथ समीज़ के निचले हिस्से को पकड़ कर, पीठ को पंडित जी के तरफ करती हुई धीरे धीरे निकाल ही ली और कुछ देर तक उस समीज़ के कपड़े से अपनी दोनो चुचिओ को ढाकी रही जो की एक पुराने ब्रा मे कसी थी. फिर उसने उस समीज़ को नीचे फर्श पर फेंक दिए और अपनी बाहों से अपनी दोनो चुचीोन को जो की ब्रा मे थी धक ली और काफ़ी धीरे धीरे सर को नीचे झुकाए हुए पंडित जी के तरफ मूडी. पंडित जी ने समीज़ के उतारते ही सावित्री की पीठ को देखा और पुराने ब्रा को भी जो उसने पहन रखा था. लेकिन ज्योन्हि सावित्री ने अपना मुँह पंडित जी के तरफ की उसके हाथों मे छिपी चुचियाँ जो काफ़ी बड़ी थी दिखी और पंडित जी के खड़े लंड ने एक झटका लिया मानो सलामी कर रहा हो. "आओ" पंडित जी ने कड़क आवाज़ मे बुलाया और बेबस सावित्री धीरे धीरे कदमो से चटाई पर आई तो पंडित जी ने उसका हाथ पकड़ कर बैठने लगे ज्योन्हि सावित्री बैठने लगी पंडित जी तुरंत उसका बड़ा चूतड़ अपने एक जाँघ पर खींच लिया नतीज़ा सावित्री पंडित जी के जाँघ पर बैठ गयी. सावित्री जो लगभग अब समर्पण कर चुकी थी उसके चूतड़ मे पंडित जी के जाँघ के कड़े मोटे बालों का गड़ना महसूस होने लगा. फिर पंडित जी ने सावित्री के पीठ के तरफ से एक हाथ लगा उसे अपने जंघे पर कस कर पकड़ बनाते हुए बैठाए और ब्रा के उपर से ही चुचिओ को दूसरी हाथ से मीज़ना सुरू कर दिया. सावित्री पंडित जी के जाँघ पर अब पूरी तरीके से समर्पित होते हुए बैठी थी और अब उसके सरीर पर उपर ब्रा और नीचे सलवार थी अंदर उसने एक पुरानी चड्धि पहन रखी थी. पंडित जी के हाथ चुचिओ के आकार के साथ साथ इसके कसाव का भी मज़ा लेने लगे. सावित्री की साँसे बहुत तेज़ हो गयी थी और अब हाँफने लगी थी. लेकिन एक बात ज़रूर थी जो पंडित जी दो को सॉफ समझ आ रही थी कि सावित्री के तरफ से विरोध एकदम नही हो रहा था. यह देखते ही पंडित जी ने उसके ब्रा के स्ट्रीप को हाथ से सरकाना चाहा लेकिन काफ़ी कसा होने से थोड़ा सा भी सरकाना मुश्किल दीख रहा था फिर पंडित जी ने सावित्री के पीठ पर ब्रा के हुक को देखा जो ब्रा पुरानी होने के कारण हुक काफ़ी कमज़ोर और टेढ़ी हो चुकी थी, और उसे खोला ही था कि सावित्री की दोनो अट्टरह साल की काफ़ी बड़ी और कसी कसी चूचिया छलक कर बाहर आ गयी तो मानो पंडित जी का तो प्राण ही सुख गया.इस पुरानी ब्रा मे इतनी नयी और रसीली चुचियाँ हैं पंडित जी को विस्वास ही नही हो रहा था. ज्योहीं दोनो चुचियाँ छलक कर बाहर आईं की सावित्री के हाथ उन्हें ढकने के लिए आगे आईं लेकिन अब मनोबल ख़त्म हो चुका था, पूरी तरह से टूट जाने के कारण सावित्री ने अपने सारे हथियार डाल चुकी थी और पंडित जी के प्रभावशाली व्यक्तित्व के सामने अब समर्पित हो चुकी सावित्री को अपनी नंगी हो चुकी चुचिओ को ढकने से कोई फ़ायदा नही दीख रहा था और यही सोच कर उसने अपना हाथ दोनो चुचिओ पर से स्वयम् ही हटा लिया नतीज़ा की दोनो चुचियाँ पंडित जी के सामने एकदम नंगी हो चुकी थी.
User avatar
rajkumari
Gold Member
Posts: 676
Joined: 22 May 2016 09:23

Re: Hindi sex novel - गावं की लड़की - Village Girl

Postby rajkumari » 15 Jul 2016 09:00

गावं की लड़की 9


पंडित जी इन्हे आँखे फाड़ फाड़ के देख रहे थे. सावित्री जो पंडित जी जांघों पर बैठी थी उसके एक कूल्हे से पंडित जी का लंड रगर खा रहा था जिसके वजह से वह लंड की गर्मी को महसूस कर रही थी और इसके साथ ही साथ उसके शरीर मे एक मदहोशी भी छा रही थी. पंडित जी की साँसे जो तेज़ चल रही थी खड़ी चुचिओ को देखकर मानो बढ़ सी गयी. फिर पंडित जी ने अपना हाथ आगे बढ़ाया और सावित्री के नंगी चुचिओ पर रख ही दिया. सावित्री को लगा की उसकी बुर से कोई चीज़ निकल जाएगी. फिर दोनो चुचिओ को बैठे बैठे ही मीज़ना सुरू कर दिया. अब सावित्री जो अपनी आँखे शर्म से बंद की थी अब उसकी आँखे खुद ही बंद होने लगी मानो कोई नशा छाता जा रहा हो उसके उपर. अब उसे आँखे खोलकर देखना काफ़ी मुस्किल लग रहा था. इधेर पंडित जी दोनो चुचिओ को अपने दोनो हाथो से मीज़ना चालू कर दिया. सावित्री जो पूरी तरह से नंगे हो चुके पंडित जी की एक जाँघ मे बैठी थी अब धीरे धीरे उनकी गोद मे सरक्ति जा रही थी. सावित्री के सरीर मे केवल सलवार और चड्डी रह गयी थी. सावित्री का पीठ पंडित जी के सीने से सटने लगा था. सावित्री को उनके सीने पर उगे बॉल अपनी पीठ से रगड़ता साफ महसूस हो रहा था. इससे वह सिहर सी जाती थी लेकिन पंडित जी की चुचिओ के मीज़ने से एक नशा होने लगा था और आँखे बंद सी होने लगी थी. बस उसे यही मालूम देता की पंडित जी पूरी ताक़त से और जल्दी जल्दी उसकी चुचियाँ मीज़ रहे हैं और उनकी साँसे काफ़ी तेज चल रही हैं. अगले पल कुछ ऐसा हुआ जिससे सावित्री कुछ घबरा सी गयी क्योंकि उसे ऐसा महसूस हुआ कि उसकी बुर से कोई गीला चीज़ बाहर आना चाह रहा हो. जिसके बाहर आने का मतलब था कि उसकी चड्डी और सलवार दोनो ही खराब होना. उसने अपनी बंद हो रही आँखो को काफ़ी ज़ोर लगा कर खोली और फिर पंडित जी की गोद मे कसमसा कर रह गयी क्योंकि पंडित जी अब सावित्री को कस पकड़ चुके थे और चुचिओ को बुरी तरह से मीज़ रहे थे. अभी यही सावित्री सोच रही थी कि आख़िर वह पंडित जी से कैसे कहे की उसकी बुर मे कुछ निकलने वाला है और उससे उसकी चड्डी और सलवार खराब हो जाएगी. यह सावित्री के सामने एक नयी परेशानी थी. उसे कुछ समझ मे नही आ रहा था.पंडित जी का प्रभावशाली व्यक्तित्व और कड़क मिज़ाज़ के डर से उनसे कुछ बोलने की हिम्मत नही थी. सावित्री को आज यह भी मालूम हो गया था कि लक्ष्मी चाची भी उनसे बच नही पाई थी. वह यही अफ़सोस कर रही थी की पहले ही उसने सलवार और चड्डी निकाल दी होती तो उसके कपड़े खराब ना होते. लेकिन वह यह भी सोचने लगी की उसे क्या मालूम की उसकी बुर से कुछ गीला चीज़ निकलने लगेगा और दूसरी बात यह की उसे लाज़ भी लग रहा था पंडित जी से. इसी बातों मे उलझी ही थी की पंडित जी का एक हाथ सावित्री के नाभि के पास से फिसलता हुआ सलवार के नडे के पास से सलवार के अंदर जाने लगा. चुचिओ के बुरी तरह मसले जाने के वजह से हाँफ रही सावित्री घबरा सी गयी फिर वैसे ही पंडित जी के गोद मे बैठी रही. पंडित जी का ये हाथ मानो कुछ खोज रहा हो और सावित्री के दोनो जाँघो के बीच जाने की कोशिस कर रहा था. सलवार का जरवाँ के कसे होने के वजह से हाथ आसानी से सलवार के अंदर इधेर उधर घूम नहीं पा रहा था. पंडित जी के हाथ के कलाई के पास के घने बॉल सावित्री के नाभि पर रगड़ रहे थे. पंडित जी की उंगलियाँ सलवार के अंदर चड्डी के उपर ही कुछ टटोल रही थी लेकिन उन्हे चड्डी मे दबे सावित्री की घनी झांते ही महसूस हो सकी. लेकिन यह बात पंडित जी को चौंका दी क्योंकि उन्हे लगा कि सावित्री के चड्डी काफ़ी कसी है और उसकी झांते काफ़ी उगी है जिससे चड्डी मे एक फुलाव बना लिया है. सलवार का जरवाँ कसा होने के वजह से पंडित जी का हाथ और आगे ना जा सका फिर उन्होने हाथ को कुछ उपर की ओर खींचा और फिर सलवार के अंदर ही चड्डी मे घुसाने की कोसिस की और चड्डी के कमर वाली रबर कसी होने के बावजूद पंडित जी की कुछ उंगलियाँ सावित्री के चड्डी मे घुस गयी और आगे घनी झांतों मे जा कर फँस गयी. पंडित जी का अनुमान सही निकला कि चड्डी के उपर से जो झांटें घनी लग रही थी वह वास्तव मे काफ़ी घनी और मोटे होने के साथ साथ आपस मे बुरी तरह से उलझी हुई थी. पंडित जी की उंगलियाँ अब सावित्री के झांतो को सहलाते हुए फिर आगे की ओर बढ़ने की कोसिस की लेकिन कमर के पास सलवार का जरवाँ कसे होने के वजह से ऐसा नही हो पाया.
सलवार और चड्डी के अंदर पंडित जी के हाथों के हरकत ने सावित्री की परेशानी और बढ़ा दी क्योंकि जो गीला चीज़ बुर से निकलने वाला था अब बुर के मुँह पर लगभग आ गया था. तभी एक राहत सी हुई क्योंकि अब पंडित जी का हाथ चड्डी से बाहर आ कर सलवार के जरवाँ के गाँठ को खोलने लगा और जरवाँ के खुलते ही पंडित जी के हाथ जैसे ही सलवार निकालने के लिए सलवार को ढीला करने लगे सावित्री ने भी अपने चौड़े चूतड़ को पंडित जी के गोद मे बैठे ही बैठे कुछ हवा मे उठाई ताकि सलवार को चूतदों के नीचे से सरकया जा सके और जाँघो से सरकाते हुए निकाला जा सके. पंडित जी ने मौका पाते ही सलवार को सरकाते हुए निकाल कर फर्श पर फेंक दिया. अब सावित्री दुबारा जब पंडित जी की गोद मे बैठी तब केवल चड्डी मे थी और उसकी जंघे भी नगी हो चुकी थी. बैठे ही बैठे सावित्री ने अपने चड्डी के उपर से बुर वाले हिस्से को देखी तो चौंक गयी क्योंकि बुर से कुछ गीला चीज़ निकल कर बुर के ठीक सामने वाला चड्डी का हिस्से को भीगा दिया था. गोद मे बैठने के वजह से पंडित जी का फंफनता लंड भी सावित्री के कमर से रगड़ खा रहा था. सावित्री की नज़र ज्योन्हि लंड पर पड़ती उसे लगता कि अब मूत देगी.

Return to “Novels (Hindi / English)”



Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 14 guests