Xossip - Hum bewafa hargiz na the हम बेवफा हरगीज़ न थें

romantic stories collection, all English or hindi romantic stories, long romantic stories in English and hindi. Love stories collection. couple stories..
User avatar
sexy
Platinum Member
Posts: 3735
Joined: 30 Jul 2015 19:39

Re: Xossip - Hum bewafa hargiz na the हम बेवफा हरगीज़ न थें

Postby sexy » 03 Mar 2016 14:52

अप्देत नं ३

ललिता देवी: कोई बात नही, रात के खाने के बाद मुझे फोन करने को बोल देना।

राज: ठीक हे माताजी।

ललिता देवी: अलविदा बेटा फोन जरूर करना।

राज: ठीक है माताजी।

और फोन कट हो जाता है।


अब आगे,

कुछ समय बाद:

विशु रात के खाने के तयार करके राज के कमरा मे आ जाता है अबे राज कहा पर हैं? राज जवाब देता है, अरे मैं फ्रेश हो रहा हूँ |

विशु: अबे इतना समय लगाता है क्या फ्रेश होने में?

राज जवाब देता है, नहीं भाई माताजी का फोन आया था ,
विशु अच्छा ठीक है जल्दी फ्रेश हो जा मैं अपने कमरा मे फ्रेश होकर आता हूँ और हा रात के खाने के लिए तैयार हैं, सीधा खाने की मेज पर आ जाना, राज कहता ठीक है ओर विशु अपने कमरा मे फ्रेश होकर खाने की मेज की ओर निकल जाता है, जब विशु खाने की मेज की तरफ आ रहा था तो राज भी खाने की मेज की ओर बद रहा था, राज विशु को आवाज देता है। विशु पीछे मुधकर राज को देकता है ओर दोनो साथ मे खाने की मेज पर की तरफ जाने लगते हे।

विशु: चल तोदा नृत्य कर लेते है।

राज: नहीं यार नृत्य का मूड नहीं है ओर सिर्फ हम दोनो नृत्य करेगे मजा नहीं आऐगा।

विशु: कौन कहता हे सिर्फ हम दोनो करेगें घर मे ओर भी लोग है रामू काका, नाटू काका, चंदा मौसी (घर को सम्भाल ने वाले नौकर) आज उनके साथ नृत्य करेंगे।

राज: चिड़ते हए अरे यार क्यूं इन लोगो को मजबूर कर रहा है नृत्य करने में, अगर तू कहेंगा भी तो मना कर लेगे ओर तू इसके साथ जबरदस्त नहीं करेगें, काका ओर मौसी को कितना अजीब लगेंगा |

विशु: अबे कौन कह रहा इसे जबरदस्ती नृत्य करवाऊगा, जानता हू काका-मौसी मना करेगें नृत्य के लिए, मैं तो सिर्फ उसे आज आनंद करवाऊगा तू सिर्फ देकता जा काका ओर मौसी को केसे आनंद करवाता हूँ बस तू मेरे साथ दे ।

राज: ठीक हे मै तेरे साथ देने के लिए तयार हूँ लेकिन काका-मौसी नहीं मानेंगे तो मे तेरे साथ नहीं दुंगा।

विशु: चल अब मे जेसे जेसे बोलता हूँ वेसे मेरे हा मे हा मिलता जा

ओर दोनो खाने की मेज के बदले हॉल पर आ जाते है, विशु राज से कहता हे तैयार हे ना राज कहता हे तयार इतना कहकर विशु नाटू काका को आवाज देता हे , नाटू काका आवाज सूनकर विशु बाबा से कहता हे रात का खाना खाने की मेज पर रख लू ?.

विशु: नहीं काका जरा रामू काका ओर चंदा मौसी को भुला लाओ।

नाटू काका चंदा मौसी ओर रामू काका को भुला लाता हे, तोडे मिनट बाद रामू, नाटु ओर चंदा हॉल पर आ जाते है, रामू काका और नाटू काका दोनो भाई हैं|

विशु: नाटू काका ओर रामू काका गांव मे काकी केसी है ओर घर मै सब केसे चल रहा हैं?

नाटू काका: भगवान के दया से विमला (नाटू काका की पत्नी) सब कुछ ठीक हे ओर घर मै कोई भी समस्या नहीं हैं।

विशु: ओर रामू काका आपका?

रामू काका: जी बाबा, शीला (रामू की पत्नी) भी ठीक है और जैसे नाटू भाई ने कहा घर मै सबकुच ठीक चल रहा।

विशु: और चंदा मौसी आपके दोनो बेटे केसे हैं?

चंदा मौसी: दोनो बेटे ठीक है विशु बाबा, अगले महीने १५ तारिक से स्कूल भी चालू हो जाएगा।

विशु: ठीक है चंदा मौसी आप अगले हफ्ते मे गावों चले जाओ ओर हा कल हम यहाँ नहीं रहेंगे ओर मैं आपको ४५ दिन की छूट्टी देता हूँ।

चंदा मौसी: खुश होकर सच बाबा?

विशु: हा सच, ये सूनकर रामू ओर नाटू काका को मूह छोटा हो जाता है ओर हा रामू काका और नाटू काका आप भी ४५ दिन की छूट्टी देता हूँ लेकिन चंदा मौसी के आने के बाद यानी दूसरे अगले महीने पर, आखिर घर मे संभालनेवाला भी तो होना चाहीए। रामू काका और नाटू काका ४५ दिन की छूट्टी सूनकर खुश हो जाते।

विशु: क्यूं राज को आँख मार के सही कह रहा हू ना?

राज: हा हा क्यूं नहीं ऐसे मै आप तीनो को लंबी छूट्टी भी मिल जाऐगी ओर सोचने लगता है ये विशु आखिर करना क्या चाहता हे।


User avatar
sexy
Platinum Member
Posts: 3735
Joined: 30 Jul 2015 19:39

Re: Xossip - Hum bewafa hargiz na the हम बेवफा हरगीज़ न थें

Postby sexy » 03 Mar 2016 14:53

अप्देत नं ४
विशु: क्यूं राज को आँख मार के सही कह रहा हू ना?
राज: हा हा क्यूं नहीं ऐसे मै आप तीनो को लंबी छूट्टी भी मिल जाऐगी ओर सोचने लगता है ये विशु आखिर करना क्या चाहता हे।

अब आगे,
विशु: ओर कहो रामू काका और नाटू काका गावो की याद आती हे या नहीं ?
नाटू काका: क्या कहु बाबा घर से ९ महीने दूर रहते है घर की याद तो बहुत आती है।

रामू काका: हा भैया घर की बहुत याद आती है बस दो महीने की बात है फिर तो हमे पूरे ४५ दिन की छूट्टी मिलनेवाली हैं।

विशु: तो आपको यहाँ रहना पसंद नहीं काका?
नाटू काका: अरे नहीं बाबा तो ऐसी बात नहीं वो तो हम दोनों भाई बचपन से वाहा खेले हैं, शादी वाहा हुई है सबकुछ गावो मे हूआ है बस कोई नौकरी गावो मे नहीं थी इसलिए हम यहाँ आये है सूरवात मे तकलीफ हुई धीरे धीरे आदत हो गई हैं अब हम यहाँ पर कोई कोई तकलीफ नहीं होती हे बस जब भी गावो जाने की बाद होती हैं तो तोड़ी उत्साहित हो जाते है।

राज: सच कहा नाटू भैया आपने।

विशु: बीच मे बोलते हुए हा काका आपने सच कहा, आपने आधी जीवन वाहा बिताया बचपन वही बिताया, शादी वाही की ऐसे मे तो मैं आपको गावों जाने मे उत्साहित हो जाता हे जेसे राज को देख लो कॉलेज सुरु होने के नाम से उत्साहित हो जाता है ओर हा काका आप कह रहे थे की आप दोनो की शादी गावो मे हुई थी तो शादी मे तो जमकर नाच किये होगे ओर ये कहकर राज की ओर मुधकर अंगुठे को ऊपर के इसारा करता है ओर राज अब सब समज जाता है ओर मन मे सोचकर रात मे क्लब-डिस्को क्लब मे तो बहुत नृत्य की ओर आज देशी गावो का डिस्को डांस देख लेते है।

रामू काका: क्या कहु विशु बाबा भाई की शादी की बारात मे ऐसे नाचे ऐसे नाचे की भैया भी हमारे साथ बाराती मे नृत्य करने पर मंजबूर हो गए।

चंदा मौसी: तो ऐसी बात सूनकर हंसने लगी।
विशु: मौसी आप ऐसे हंस क्यूँ रहे हो ? ये सूनकर रामू और नाटू काका मौसी को तोडे गुस्सेसे देखते हैं ।

चंदा मौसी: क्या कहु विशु बाबा ये नाटू और रामू की बात सूनकर हंसी आ गयी।

उसे पहले नाटू और रामू काका कुछ कहते

विशु: हा तो इसमे हंसने की क्या बात हे क्या नाटू और रामू काका नृत्य नहीं कर सकते ?
रामू काका: हा चंदा तू हंसना बंद कर हमने नाटू भैया की शादी मे जमकर नृत्य किया तुझे माना हैं तो मान नहीं तो चूप कर।
चंदा मौसी:गूस्से होकर हा जानती हू ऊलू की तरह नृत्य किया होगा ओर बोलकर फिर से हंसने लगी।
दोनो का जगड़ा देखकर राज बीच मे बोलनेवाला था की विशु ने उसे रोक दिया।
रामू काका: हंसना बंद कर तुझे क्या पत्ता नृत्य क्या होता कभी जिदंगी मे नृत्य किया हे कभी भी देखको हस्ती रहती हो।
ओर विशु मौके का फायदा उठाकर बोल पड़ा
विशु: हा मौसी आपने कभी नृत्य भी किया हैं?
चंदा मौसी: विशु बाबा की बात सूनकर शौक हो जाती है और सोचती हे क्या कहु अभी ये रामू ने मुझे फंसा दिया, हा बोल देती हू, ना किया तो ये रामू हमैशा चिड़ाता रहेगा ओर कहती हे हा विशु बाबा मैं तो ये दोनो भाई रामू और नाटु से अच्छा के नृत्य कर सकती हू।
ये सूनकर अब काका भी चिड़ जाता हैं।
विशु कहने लगता हे तो ठीक नृत्य प्रतियोगिता हो जाए?
ये कहकर रामू, नाटु और चंदा शौक हो जाते हे ओर जल्दी ही रामू कह देता हे जी बाबा मै तयार हू प्रतियोगिता के लिए अब दोनो नाटु और चंदा सोचने मेलग जाते है।
विशु जल्दी बोल वरना अगर ओर टोडा समय दिया तो सब काम बनाया हुआ फैल हो जाएगा इसलिए नाटु और चंदा को कहता है हा नाटु काका और चंदा मौसी आप भी तयार हैं?.
रामू बोल देता है बिना नाटु भईया तयार है पर मुझे नहीं लगता ये चंदा तयार है इसलिए मैं और नाटु भैया नृत्य करने के लिए तयार हे ओर ये सूनकर चंदा मौसी भी कह देती हा हा मैं भी तयार हू प्रतियोगिता, प्रतियोगिता मे तो मे जितूगी और नाटु भी कह देता हा मैं तयार हू।
राज सब सूनकर मन मे हंसने लगता आखिर मे अपनी मनमानी ही किया विशु ने।
विशु: तो आप तीनों के बीच अभी प्रतियोगिता होगा क्या आप मे से थक गए हैं तो कल रखेंगे प्रतियोगिता।

तिनों एक साथ कहते नहीं बाबा अभी नृत्य प्रतियोगिता के लिए तयार है कोई भी थका नहीं।

रामू काका कहता है हमारा काम शाम तक ही खत्म हो जाता है बस नाटू भैया थक गए होगे, नाटू काका नहीं रामू माई मैं भी तयार हूँ आज रात के खाने के विशु बाबा ने बनाया है तो बीच मे मुझे आराम मिल गया था, चंदा मौसी भी कहती है हा मै भी तयार हूँ मेरा भी काम शाम तक खत्म हो जाता है इसलिए मुझे भी कोई थकावत नहीं है और ये दोनो भाई आज मेरे से हारनेवाले है ये सूनकर विशु सोचने लगता है और फिर कहता हे लेकिन मेरी एक शर्त।
User avatar
sexy
Platinum Member
Posts: 3735
Joined: 30 Jul 2015 19:39

Re: Xossip - Hum bewafa hargiz na the हम बेवफा हरगीज़ न थें

Postby sexy » 03 Mar 2016 14:54

अप्देत नं ५

तिनों एक साथ कहते नहीं बाबा, अभी नृत्य प्रतियोगिता के लिए तयार है कोई भी थका नहीं।

रामू काका कहता है हमारा काम शाम तक ही खत्म हो जाता है बस नाटू भैया थक गए होगे, नाटू काका नहीं रामू माई मैं भी तयार हूँ आज रात के खाने के विशु बाबा ने बनाया है तो बीच मे मुझे आराम मिल गया था, चंदा मौसी भी कहती है हा मै भी तयार हूँ मेरा भी काम शाम तक खत्म हो जाता है इसलिए मुझे भी कोई थकावत नहीं है और ये दोनो भाई आज मेरे से हारनेवाले है ये सूनकर विशु सोचने लगता है और फिर कहता हे लेकिन मेरी एक शर्त।

अब आगे,

लेकिन मेरी एक शर्त है और आप सबको मानी होगी ओर तीनो कहते हे बाबा आप अपना शर्त बताए हम मानेंगे.विशु कहता हे मेरा ये शर्त ये है की मैं आपको तीनों को एक साथ एक ही गाने मे नृत्य करेंगे और गाना मैं चयन करऊगा ओर जीतनेवाले को राज बहुत किमती इनाम देगा बोलो मंजूर हे और तीनों कहते है ठीक है, बाबा हम तीनों एक साथ एक ही गाने मै नृत्य करेंगे, विशु बोलता है तो चलो डांस फ्लोर पर।

राज: अबे साले कहाँ फंसाया मुझे इतनी रात मे क्या उपहार दूंगा?

विशु: क्यूं तनाव ले रहा है नृत्य का मजा ले उपहार की टेंशन मत ले

राज: पता नहीं विशु के दिमाग मे क्या रहता है और पाँचो एक खूले कमरे मे आ जाते है और तौदा बहुत वक्ता ओर कुर्सी समायोजित को करके डांस फ्लोर की तरह तो नहीं बस नृत्य करने मे आराम हो जाए ऐसे कमरे बन्ना लेते है , राज और विशु कुर्सी मे बैठकर ।

विशु: है अब मात्र प्यारे काका और मौसी आज चरण मैं आपको एक साथ कज़रारे कज़रारे गानों मे आपको नृत्य करना हैं,क्या आप तीनों तयार हैं?तीनों कहते है हम तयार हैं.तो ठीक है अपनी स्थिति मे आ जाओ ओर राज और विशु कुर्सी मे बेतकर गाना सुरु करते हे और कुछ इस तरह तीनों एक साथ नृत्य करते है|

Image

Image

Image

नृत्य के पिछले कुछ मिनट मे राज और विशु भी रोक नहीं पाते ओर तीनों के साथ साथ राज और विशु भी नृत्य करते है।


नृत्य के अंत के बाद पाँचों ताली बजाते है ओर विशु कहने लगता वाह काका और मौसी क्या नृत्य किया मजा आ गया क्यूं राज?

राज: हा काका मौसी मजा आया आप लोगो के नृत्य करने मै डांस क्लब को पीछै चोद दिया।

विशु: चलो काका-मौसी कौन पहले आया घोषणा करने का वक्त आ गया ।

Return to “Romantic Stories”



Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest